-->

B.ed का Full Form क्या है। Eligibility, Criteria, Syllabus Full Details

 B.ed Full Form 

भारत में शिक्षण कार्य सबसे सम्मानित पेशों में से एक है। आजकल लोग शिक्षा के महत्व को जानते हैं और चाहते हैं कि उनके बच्चे भी साक्षर हो। देश मे आज भी अधिकांश छात्र शुरू में शिक्षकों या उनके पेशे को बिल्कुल भी पसंद नहीं करते हैं, समय बीतने के साथ शिक्षकों के महत्व को समझा जाता है। बी.एड 2 वर्ष की अवधि के साथ एक डिग्री है जो एक स्कूल में प्राथमिक, माध्यमिक या उच्च माध्यमिक स्तर के लिए एक शिक्षक के रूप में रोजगार की दिशा में एक आधार है।

भारतीय शिक्षा प्रणाली में, एक व्यक्ति को साक्षरों में गिने जाने के लिए अपनी स्कूली शिक्षा कम से कम 10वीं तक पूरी करनी होती है। नीचे दिया गया आर्टिकल स्नातक शिक्षा (बी. एड.) में डिग्री हासिल करने से संबंधित विभिन्न पहलुओं की पूरी जानकारी से संबंधित है तो बने रहे हमारे साथ और जानते है बी.एड से संबन्धित सभी जानकारी जो शायद आपने किसी से न सुनी और जानी हो।

B.Ed full form

बी.एड का फुल फॉर्म क्या होता है (B.ed Full Form)

बीएड का फुल फॉर्म Bachelor of Education है। अब शायद ही कोई बी.एड का फुल फॉर्म इस्तेमाल करता हो। इसे आमतौर पर उम्मीदवारों द्वारा बी.एड के रूप में संदर्भित किया जाता है। यह उन आवेदकों के लिए पूर्णकालिक दो वर्षीय पाठ्यक्रम है जो शिक्षण को अपने करियर के रूप में चुनना चाहते हैं।

बी.एड फुल फॉर्म हिन्दी में (B.ed Full Formin Hindi)

बी.एड का हिन्दी मे फुल फॉर्म बैचलर्स इन एजुकेशन होता है

बी.एड क्या है (B.ed Full Details)

b.ed


बी.एड एक प्रकार की डिग्री है जो कि शिक्षण के क्षेत्र में एक स्नातक व्यावसायिक पाठ्यक्रम को संबोधित करता है। प्राथमिक और उच्च स्तरों में शिक्षण में रुचि रखने वालों के लिए एक अनिवार्य कार्य बन गया है। राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद वह प्राधिकरण है जो भारत में बी.एड सहित शिक्षण पाठ्यक्रमों को नियंत्रित करता है।

बी.एड कौन कर सकता है (B.ed Eligibility)

बी.एड करने के लिए उम्मीदवार को कुछ योग्यताओं को ध्यान मे रखते हुये Apply कर सकते हैं। जो नीचे दी गई है:-

शैक्षिक योग्यता:

उम्मीदवार के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी स्ट्रीम में स्नातक की डिग्री होनी चाहिए, चाहे वह Science , Art या Commers आदि किसी भी स्ट्रीम से हो

न्यूनतम स्कोर:

बी.एड डिग्री में प्रवेश लेने के इच्छुक लोगों के पास अपने स्नातक में कम से कम 50% - 60% या इस तरह के समकक्ष ग्रेड का स्कोर होना चाहिए।

आयु:

बी.एड डिग्री प्राप्त करने के इच्छुक उम्मीदवारों के लिए कोई विशिष्ट ऊपरी या निचली आयु सीमा नहीं है।

बी.एड प्रवेश प्रक्रिया क्या है (B.ed Entrance Exam Process)

विभिन्न संस्थानों के लिए बी.एड डिग्री पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश प्रक्रिया अलग-अलग होती है। उदाहरण के लिए, ऐसे विश्वविद्यालय हैं जो बी.एड डिग्री में प्रवेश लेने के लिए विशिष्ट प्रवेश परीक्षा यानि Entrance Exam आयोजित करते हैं, जबकि कुछ अन्य विश्वविद्यालय ऐसे भी हैं जो प्रवेश सीधे योग्यता के आधार पर प्रदान करते हैं न कि किसी प्रवेश परीक्षा के माध्यम से। इस प्रकार, प्रवेश की प्रक्रिया पूरी तरह से संस्थान पर ही आधारित होगी।

नोट:-  बी.एड मे प्रवेश पाने के लिए उम्मीदवार को Online B.ed Entrance Exam का फॉर्म भरना होता है इसके बाद entrance Exam देना होता है। Result आने के बाद रैंक के अनुसार विश्वविद्यालयों मे दाखिला लेना होता है।

बी.एड सिलैबस क्या है (B.ed Syllabus)

 बी.एड में प्रवेश प्रदान करने वाले विभिन्न संस्थानों और विश्वविद्यालयों के लिए शिक्षा स्नातक के लिए पाठ्यक्रम भिन्न हो सकते हैं। अवधि। हालांकि, राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) को बी.एड डिग्री पाठ्यक्रम को संदर्भित करने के उद्देश्य से एक मानक प्राधिकरण माना जा सकता है। बी.एड डिग्री के पाठ्यक्रम के अंतर्गत शामिल किए जाने वाले प्रमुख विषय नीचे दिए गए हैं:

इस वर्ष संयुक्त प्रवेश परीक्षा का परीक्षा पाठ्यक्रम ( B.ed Entrance Exam Syllabus ) निम्नलिखित विषयों पर आधारित है।

  • मैथ एबिलिटी और मेंटल एबिलिटी सवाल
  • सामान्य ज्ञान और करंट अफेयर्स
  • लैंग्वेज एबिलिटी टेस्ट
  • शिक्षण प्रवीणता परीक्षा
  • विषय परीक्षा (कला, विज्ञान, कृषि, वाणिज्य)

बी.एड करने के बाद क्या करें ( After B.ed Course)

जो छात्र शिक्षण को आगे बढ़ाना चाहते हैं, वे बी.एड की डिग्री में प्रवेश करते हैं, और इस प्रकार, दायरा उसी के आसपास होता है। B.ed  Degree धारक सरकारी या निजी संस्थानों में शिक्षण पेशे में रोजगार के साथ आगे बढ़ सकते हैं, या मुख्यधारा की स्कूली शिक्षा के अलावा विशेष शिक्षा के लिए ट्यूटर बनने के बारे में भी सोच सकते हैं, जैसा कि इन दिनों अधिकांश छात्रों की आवश्यकता है। वे अपने स्नातक स्तर की पढ़ाई के क्षेत्र में आगे की पढ़ाई के लिए भी जा सकते हैं, आगे की पढ़ाई मे परास्नातक के लिए बी.एड पूरा करने के बाद M.ed के लिए आवेदन भी कर सकते हैं। M.ed (Master of Education) Degree छात्र विभिन्न राज्य स्तरीय शिक्षक प्रवेश परीक्षाओं में भी बैठ सकते हैं जैसे टीईटी (TET), सीटीईटी (CTET) आदि।

बी.एड के बाद कैरियर (Career Options After B.ed)

छात्र बिरादरी के बीच यह अच्छी तरह से जाना जाता है कि बी.एड शिक्षण में एक पेशे को आगे बढ़ाने के लिए एक बुनियाद है जिससे उम्मीदवारों को प्राथमिक, माध्यमिक और वरिष्ठ माध्यमिक स्तर पर शिक्षक के रूप में नियोजित किया जा सकता है। और इसलिए, शिक्षा में स्नातक के बाद कैरियर के अवसरों का आधार शिक्षण के आसपास है, हालांकि, रोजगार के आधार पर शिक्षण का स्थान भिन्न हो सकता है। नीचे रोजगार की प्रकृति के कुछ क्षेत्र दिए गए हैं जो किसी ऐसे व्यक्ति के लिए खुले हैं जिसने अपनी बी.एड डिग्री पूरी कर ली है और उसके बाद Career की तलाश कर रहा है:-

  • स्कूल में पढ़ाना (School Teaching)
  • निजी ट्यूशन (Private Tutoring)
  • शैक्षिक शोधकर्ता (Educational Researcher)
  • ऑनलाइन ट्यूशन (Online Tutoring)
  • शैक्षिक सामग्री डेवलपर (Educational Content Developer)
  • शैक्षिक सलाहकार (Educational Consultant)
  • प्रिंसिपल और वाइस प्रिंसिपल (Principal and Vice Principal)

ऊपर दी गयी Career Options आप सरकारी या गैर सरकारी व्यवसाय के साथ जोड़ सकते है।

दोस्तो आपको यह पोस्ट कैसी लगी हमे जरूर बताएं और यदि आपके मन मे कोई भी सवाल या हमारे लिए सुझाव है तो हमे नीचे Comment के माध्यम से बता सकते है हमे आपके सवालों के उत्तर देने मे खुशी होगी।

Related Post

Post a Comment